Skip to content

लकवा (पैरालिसिस) क्या है? इसके कारण, लक्षण और 10 घरेलू उपचार! (What is Paralysis? Its causes, symptoms and 10 important home remediesin Hindi)

लकवा (पैरालिसिस) क्या है? इसके कारण, लक्षण और 10 घरेलू उपचार! (What is Paralysis? Its causes, symptoms and 10 important home remediesin Hindi)

लकवा (Paralysis) आपके शरीर के हिस्से में मांसपेशियों के कार्य का नुकसान है। यह स्थानीयकृत (Localized) या सामान्यीकृत (Generalized), आंशिक या पूर्ण और अस्थायी या स्थायी हो सकता है। लकवा को समझने और उससे निपटने में आपकी मदद करने के लिए जानकारी, संसाधन और सहायता प्राप्त करें।

लकवा क्या है? (What is Paralysis?)

लकवा (Paralysis) आपके शरीर के हिस्से में मांसपेशियों के कार्य का नुकसान है। यह स्थानीयकृत (Localized) या सामान्यीकृत (Generalized), आंशिक या पूर्ण और अस्थायी या स्थायी हो सकता है। लकवा आपके जीवन में किसी भी समय आपके शरीर के किसी भी हिस्से को प्रभावित कर सकता है। यदि आप इसका अनुभव करते हैं, तो संभवतः आपको प्रभावित क्षेत्रों में दर्द महसूस नहीं होगा।

लकवा (Paralysis)
लकवा (Paralysis)

लकवा के लक्षण क्या हैं? (What are the Symptoms of Paralysis?)

लकवा (Paralysis) के लक्षणों की पहचान करना आमतौर पर आसान होता है। यदि आप लकवा का अनुभव करते हैं, तो आप अपने शरीर के एक विशिष्ट या व्यापक क्षेत्र में काम करना बंद कर देंगे। पूर्ण लकवा (होने से पहले कभी-कभी झुनझुनी या सुन्नता की अनुभूति हो सकती है। लकवा प्रभावित शरीर के अंगों में मांसपेशियों को नियंत्रित करना मुश्किल या असंभव बना देता है ।

लकवा के लक्षण
लकवा के लक्षण

लकवा कितने प्रकार के होते हैं? (Types of Paralysis)

लकवा को कई अलग-अलग तरीकों से वर्गीकृत किया जाता है:-

स्थान (Location)

स्थानीय लकवा आपके शरीर के केवल एक हिस्से को प्रभावित करता है, जैसे आपका चेहरा या हाथ।सामान्यीकृत लकवा स्थितियों का एक समूह है जो शरीर के कई अंगों को प्रभावित करता है।

Types of Paralysis
Types of Paralysis

प्रकारों में शामिल हैं:-

  • मोनोपलेजिया (Monoplegia):- जिसमे केवल एक हाथ या एक पैर ही  प्रभावित होता  है
  • अर्धांगघात (Hemiplegia):- जो  शरीर के एक ही तरफ एक हाथ या  एक पैर को प्रभावित करता है
  • पैरापलेजिया (Paraplegia):- जो आपके दोनों पैरों को प्रभावित करता है
  • चतुर्भुज (Quadriplegia or Tetraplegia):- जो  दोनों हाथों और  दोनों पैरों को प्रभावित करता है

तीव्रता (Severity)

यदि आपको आंशिक लकवा है तो प्रभावित शरीर के अंगों की मांसपेशियों पर आपका कुछ नियंत्रण होगा। यदि आपको पूर्ण लकवा है, तो प्रभावित क्षेत्रों में मांसपेशियों पर आपका कोई नियंत्रण नहीं होगा।

अवधि (Duration)

आपका लकवा अस्थायी हो सकता है। उदाहरण के लिए बेल्स पाल्सी (Bell’s Palsy)  एक ऐसी स्थिति है जो आपके चेहरे के अस्थायी लकवा (Facial Paralysis) का कारण बन सकती है। स्ट्रोक (Strokes) आपके शरीर के एक हिस्से को अस्थायी रूप से पंगु (Paralyze) बना सकता है। समय और उपचार के साथ, आप अपनी कुछ या सभी भावनाओं और समन्वय (Coordination) को पुनः प्राप्त कर सकते हैं।अन्य मामलों में  लकवा स्थायी होने की संभावना ज्यादा होती  है।

चपटा या स्पास्टिक (Flaccid or Spastic)

फ्लेसीड पैरालिसिस के कारण आपकी मांसपेशियां सिकुड़ जाती हैं और पिलपिला हो जाती हैं। इसका परिणाम मांसपेशियों की कमजोरी में होता है। स्पास्टिक लकवा (Spastic Paralysis) में तंग और कठोर मांसपेशियां शामिल होती हैं। यह आपकी मांसपेशियों को अनियंत्रित रूप से मरोड़ने या ऐंठन का कारण बन सकता है।

लकवा का कारण क्या है? (What is the Cause of Paralysis?)

कुछ लोग जन्मजात लकवाग्रस्त होते हैं। दूसरों को दुर्घटना या चिकित्सीय स्थिति के कारण लकवा हो जाता है।

क्रिस्टोफर और डाना रीव फाउंडेशन के अनुसार, स्ट्रोक (Stroke) संयुक्त राज्य अमेरिका में लकवा का प्रमुख कारण है। यह लगभग 30 प्रतिशत मामलों के लिए जिम्मेदार है। रीढ़ की हड्डी की चोट अनुमानित 23 प्रतिशत मामलों में होती है। मल्टीपल स्केलेरोसिस (Multiple Sclerosis) अनुमानित 17 प्रतिशत मामलों का कारण बनता है।

लकवा के अन्य कारण  हैं: –

  • मस्तिष्क लकवा (Cerebral Palsy)
  • पोस्ट-पोलियो सिंड्रोम (Post-Polio Syndrome)
  • मस्तिष्क की चोट (Traumatic Brain Injury)
  • न्यूरोफाइब्रोमेटोसिस (Neurofibromatosis)
  • जन्म दोष (Birth Defects)

लकवा का निदान कैसे किया जाता है? (How is Paralysis diagnosed?)

लकवा का निदान करना अक्सर आसान होता है, खासकर जब आपकी मांसपेशियों की कार्यक्षमता में कमी स्पष्ट हो। आंतरिक शरीर के अंगों के लिए जहां लकवा की पहचान करना मुश्किल  होता है और  डॉक्टर एक्स-रे, सीटी स्कैन, एमआरआई स्कैन या अन्य इमेजिंग परिक्षण कर सकता है।

यदि आप रीढ़ की हड्डी की चोट का अनुभव करते हैं तो आपका डॉक्टर आपकी स्थिति का आकलन करने के लिए माइलोग्राफी (Myeligraphy) का उपयोग कर सकता है। इस प्रक्रिया में, वे आपकी रीढ़ की हड्डी में नसों में एक विशेष डाई डालेंगे। इससे उन्हें आपकी नसों को एक्स-रे पर अधिक स्पष्ट रूप से देखने में मदद मिलेगी।

वे एक इलेक्ट्रोमोग्राफी (Electromyography) भी कर सकते हैं। इस प्रक्रिया में, वे आपकी मांसपेशियों में विद्युतीय (Electrical) गतिविधि को मापने के लिए सेंसर (Sensors) का उपयोग करेंगे।

लकवा का इलाज कैसे किया जाता है? (How is Paralysis treated?)

एक उपचार योजना लकवा के अंतर्निहित कारण के साथ-साथ अनुभव किए गए लक्षणों पर निर्भर करेगी। उदाहरण के लिए, एक डॉक्टर लिख सकता है: –

  • सर्जरी या संभावित विच्छेदन (Surgery or Possible Amputation)
  • भौतिक चिकित्सा (Physical Therapy)
  • व्यावसायिक चिकित्सा (Occupational Therapy)
  • गतिशीलता सहायक, जैसे कि व्हीलचेयर, ब्रेसिज़, मोबाइल स्कूटर, या अन्य उपकरण (Mobility aids, such as wheelchairs, braces, mobile scooters, or other devices)
  • यदि आपको स्पास्टिक लकवा है तो बोटॉक्स या मांसपेशियों को आराम देने वाली दवाएं (Medications, such as Botox or muscle relaxers, if you have spastic paralysis)

कई मामलों में, लकवा ठीक नहीं होता है। लेकिन एक स्वास्थ्य देखभाल टीम लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद करने के लिए कई तरह के उपचार, उपकरण और रणनीतियों की सिफारिश कर सकती है।

लकवा वाले लोगों के लिए दृष्टिकोण क्या है? (What is the outlook for people with Paralysis?)

लकवा से पीड़ित बहुत से लोग कभी भी अपने शरीर के प्रभावित क्षेत्रों में गतिशीलता या संवेदना वापस नहीं प्राप्त कर पाते हैं। लेकिन भले ही किसी व्यक्ति का लकवा ठीक न हो, उनकी स्वास्थ्य सेवा टीम जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद करने के लिए सहायक तकनीकों, चिकित्सीय हस्तक्षेपों या अन्य रणनीतियों की सिफारिश कर सकती है।

उदाहरण के लिए, विशेष ब्रेसिज़ और इलेक्ट्रॉनिक गतिशीलता डिवाइस स्वतंत्र आंदोलन की अनुमति दे सकते हैं। व्यावसायिक चिकित्सक और अन्य पेशेवर रोगी की क्षमताओं और आवश्यकताओं के अनुरूप मदद कर सकते हैं: –

  • कपड़े
  • घर
  • गाड़ी
  • कार्यस्थल

लकवा के लिए आहार युक्तियाँ (Diet for Paralysis)

  1. हमेशा ताजा और गर्म खाना ही खाएं। ठंडे खाने से परहेज करें।
  2. ऐसे खाद्य पदार्थों से बचें जो कड़वे, अम्लीय या तीखे हों।
  3. मीठे, खट्टे या  नमकीन खाद्य पदार्थों को खाएं ।
  4. अपने दैनिक आहार में   मेवे को शामिल करें ।
  5. आहार में चावल और गेहूं का सेवन करें लेकिन  जौ, बाजरा और राई से बचना चाहिए।
  6. मांस खाते समय सफेद मांस चुनें और लाल मांस से बचें।
  7. अपने दैनिक आहार के हिस्से के रूप में गाजर, चुकंदर, भिंडी और शतावरी के बड़े हिस्से का सेवन करें।

लकवा के लिए घरेलू उपचार (Home Remedies for Paralysis):-

  • शतावर (जीनस) के पत्तों को  पीसकर लकवे के कारण  होने वाले दर्द वाले स्थान पर लेप लगाएं ।
  • सूजन के कारण होने वाले दर्द से राहत पाने के लिए अरंडी के तेल में सहजन की कुछ पत्तियों को भून कर दर्द वाली जगह पर लगाने से दर्द से राहत मिलती है ।
  • लकवा के कारण विकृत चेहरा हो तो काली मिर्च का चूर्ण और सोंठ का चूर्ण बराबर मात्रा में लेकर शहद में मिलाकर दिन में दो से तीन बार सेवन करें।
  • अकरकरा की जड़ को महीन पीस लें और इसे महुआ के तेल में मिला लें। प्रभावित क्षेत्र पर दिन में दो से तीन बार मालिश करें।
  • यह मांसपेशियों के तनाव को कम करने में मदद करता है और इसके स्वर को वापस लाने में भी मदद करता है। वास्तव में, इस तेल से पूरे शरीर की मालिश करने से मांसपेशियों की ताकत तेजी से वापस पाने में मदद मिल सकती है।
  • 1 किलो गन्ने की जड़ लेकर उसे दरदरा पीस लें। इसे पानी में उबाल कर आधा कर लें। मिश्रण को छान लें। इसे 6 ग्राम प्रत्येक पीपल बमसलोचन, काली मिर्च, इलायची, और मुलेठी और 1/2 किलो मिश्री (मिश्रित चीनी की गांठ) के साथ मिलाएं। इसे उबाल लें और इसे चाशनी की संगति में लाएं। 1-2 ग्राम नियमित रूप से लें। इससे पैरालिसिस में भी मदद मिलती है।
  • ब्रोमेलैन एक एंजाइम है जो अनानास के रस और तने में पाया जाता है जो दर्द को कम करने में मदद करता है। ब्रोमेलैन की 1500 मिलीग्राम की गोली दिन में तीन बार लें।
  • एक दिन में 180 से 240 ग्राम जिन्कगो का सेवन करें। यह दूसरे स्ट्रोक के हमले को रोकने में मदद करता है।
  • अलसी का 1 चम्मच तेल दिन में एक बार ले।
  • विटामिन सी 3000 मिलीग्राम दिन में एक बार ले।

बर्ड फ्लू के लक्षण, रोकथाम और 7 महत्वपूर्ण घरेलू उपचार! (Bird flu symptoms, prevention and 7 important home remedies in Hindi)

Read More

2 thoughts on “लकवा (पैरालिसिस) क्या है? इसके कारण, लक्षण और 10 घरेलू उपचार! (What is Paralysis? Its causes, symptoms and 10 important home remediesin Hindi)”

  1. Hello. This post couldn’t be written any better! Reading this post reminds me of my previous room mate. He always kept chatting about this. I will forward this page to him. Fairly certain he will have a good read. Thank you for sharing.

  2. I really wanted to construct a brief remark so as to express gratitude to you for those marvelous pointers you are giving here. My long internet investigation has at the end of the day been recognized with reputable suggestions to go over with my visitors. I would suppose that most of us visitors actually are undeniably blessed to exist in a wonderful community with many marvellous professionals with very helpful tactics. I feel quite privileged to have discovered your entire web pages and look forward to really more enjoyable moments reading here. Thank you once more for everything.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *